Life me jab kuchh samajh na aaye to kya kare : जिन्दगी में जब कुछ समझ न आये तो क्या करें ? - kuch samajh nahi aa raha kya karu

 

जिन्दगी में जब कुछ समझ आये तो क्या करें – jab kuchh samajh na aaye to kya kare

ज़िन्दगी में जब कुछ समझ न आये तो क्या करे ? क्या करना चाहिए जब जिन्दगी बोझ लगने लगे,  मैं 30 साल का हूँ और अभी-भी बेरोजगार हूँ ? मैं बहुत परेशान हूँ मैं क्या करू ? मैं 25 साल का हूँ और जीवन में हार मान चूका हूँ मैं क्या करूं ? मैं अकेला हूँ कुछ नहीं कर पा रहा मैं क्या करूं? मैं 2 साल में अरबपती बनना चाहता हूँ इसके लिए मुझे क्या करना चाहिये ?मैं अमीर कैसे बनू?

ऐसे हैं आजकल के युवा के सवाल मैं भी उन्ही में से था और आप भी उन्ही में से हो ?

लेकिन आपने कभी सोचा है की आप अपने जीवन में कुछ कर क्यों नहीं पाते हो और हम में से क्यों कुछ ही लोग अपने  जीवन में सफल हो पाते हैं और बाकि सब जो भी सोचते हैं वो सिर्फ ख्वाइश ही रह जाती हैं |

jindagi me jab kuchh samjh na aye to kya kare video

ज़िन्दगी में जब कुछ समझ न आये तो क्या करे ?

यदि आप भी चाहते हो की आप भी कुछ करो जीवन में तो जो भी मैं आगे बताने वाला हूँ उसे ध्यान से पढ़े उसके बाद आपमें एक नया जूनून आएगा और आप जो भी चाहते हो आप करोगे और कुछ बन के दिखाओगे और अपने जीवन में कुछ नया बदलाव भी लाओगे

जब हम किसी चीज़ को सोचते हैं और क्यों नहीं कर पाते हैं हम बीच रास्ते में ही क्यों छोड़ देते हैं :

कई ऐसे भी हैं जिन्होंने बहुत ज्यादा पढ़ाई की है लेकिन वे घर पर बैठे हैं ऐसे क्यों है और कई ऐसे हैं जो कुछ करने के लिए सोचते हैं और करना सुरु करते हैं एक दिन किया दो दिन किया पाँच दिन किया फिर वैसी हाल और फिर एक महीने बाद सोचेंगे और फिर वही हाल ऐसे करते-करते साल गुजर जाता है और आप अपने आप में ही डिप्रेशन में जाने लगते हो और वही विडीयो जो मैंने डाली है डिप्रेसन से बाहर निकलने के तरीके ये सर्च करने लगते हो तो इस नोबत में जाना ही क्यों है

 

क्या आप सच में ज़िन्दगी में कुछ करना चाहते हो ?

कुछ समय पहले मेरा एक दोस्त काफी दिनों से मुझसे मिलना चाहता था जब मैं उससे मिला तो उसने मुझसे बोला की भाई मैं कॉलेज पूरा कर चूका हूँ, और मुझे अभी तक कोई काम नहीं मिला क्या करू घर वाले भी बोल रहे हैं की घर में ही बैठा रहता है | कुछ काम नहीं करता बहुत ज्यादा परेशान हूँ | मैंने उसे बोला अपनी परेशानी बताना और कर क्यों नहीं रहा तो वो बोला मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा है की मैं क्या करूं? ,कैसे करूं?मैं चीजों  में लगता हूँ तो मैं अच्छे से फोकस नहीं कर पाता |

मैंने बोला एक काम कर मुझे तेरा सिर्फ 15 से 16 घंटे चाहिए पूरे दिन के वो भी सिर्फ तीन महीने तक और जिन्दगी में कभी-भी तुझे जॉब की दिक्कत नहीं आयेगी तू जो भी करेगा वह खुद से करेगा ऐसा तू बन जाएगा | और वो सारी स्कील तेरे पास आ जायेंगी |  किन्तु उसका जवाब था की मैं इतने घंटे नहीं दे सकता कोई जॉब ही दिला दे भाई 8 घंटे की वो ही मेरे लिए अच्छा रहेगा मतबल दोस्तों 3 महिने वह 15 -16 घंटे नहीं दे सकता था लेकिन वह जिन्दगीभर 8 घंटे की नौकरी कर सकता है यह उसे मंजूर है

लेकिन अगर वह तीन महीने तक अगर समय देता तो तीन महीने के बाद उसे ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं पड़ती| और कभी जिन्दगी में मार नहीं खाता और यहीं पर हम हार जाते हैं और जो भी चीजें में आगे बता रहा हूँ उसे ध्यान से समझना और कारण क्या होते हैं 


1.    धीरज (Petience)

 हमारे अंदर धैर्यता नहीं होता इसका मतलब यह है की कुछ ऐसे काम जिनमें हमें तुरंत रिजल्ट दिखने को मिलता है और हम खुश हो जाते हैं और कुछ काम ऐसे होते हैं जिनमें रिजल्ट बहुत लेट आता है हम काम कर रहे होते हैं रिजल्ट बहुत लेट आता है हमें रिजल्ट कभी-कभी अच्छा  नहीं मिल पाया तो इतना मेहनत किया वो बर्बाद हो जाएगा और इस चीज़ को लेकर हम कुछ करते ही नहीं है|

उदाहरण के लिए आपने एक Goal ( गोल ) चुना की एक साल का मैं टार्गेट ले रहा हूँ मुझे ये करके दिखाना है मुझे ये हासिल करना है, ये बनके दिखाना है उसमें ये होगा की जो रिसल्ट होगा वो आने में समय लगेगा और आपके दिमाग में कई सारे प्रशन आयेंगे की हो पायेगा की नहीं या कही मेहनत खराब तो नी चला जायेगा |

लेकिन वही पर यदि आपको फोन चलाने को बोला जाय तो तुरंत आपको खुशी मिलती है जाहिर सी बात है क्यों करोगे वो सब काम जिसमें आपको मेहनत करना हो और मुख्य यही कारण है जिसके वजह से सब रुक जाते हो आपका कम्फर्ट जोंन ( Comfort Zone )|

एक दिन नी किया कोई बात नहीं आप पूरा दिन रेस्ट/आराम करो दुसरे दिन हफ्ते में एक दिन रेस्ट ले लो लेकिन रोज़ अपने आप को ताना  मत मारो इसके जगहे पर करो दिशा कैसे चुनना है मैं अभी आपको बताऊंगा |


ये भी पढ़े >> 4 तरीके दर और घबराहट कैसे दूर करे ?


2.   सही रास्ता ( Right Direction )

सही रास्ते का नहीं मिल पाना जैसे ही हम 12th पास होते हैं या कॉलेज पूरा हो जाता है ,तो हम जगह-जगह पूछना सुरु कर देते हैं क्या चीज़ सही रहेगा और क्या चीज़ सही नहीं रहेगा कोई कुछ बताता है तो कोई कुछ ,और कोई किसी चीज़ में ज्यादा पैसे बताता है तो हम बोलते हैं अरे वाह यह बहुत अच्छा है  इसी को करना है उनमें जैसे ही लगते है ये समस्या है तो हमें पता लगता है की इतना सारा मेहनत करना पड़ेगा ये चीज़ होना पड़ेगा वैसे ही हमारा मौरल/motivation नीचे/low हो जाता है और फिर हम कुछ और सोचते हैं फिर हम किसी और में लग जाते हैं और बोलते हैं अरे वाह यह बहुत अच्छा है और  ऐसी करते करते हमारा काफी साल ऐसे ही बीत जाते हैं|

सही रास्ते का बहुत महत्व है आपको सिर्फ एक चीज़ चुनना है की आप सच में करना क्या चाहते हो | जो आप सोच रहे वो किसी और के कहने पर सोच रहे हो या कहीं देखा है | और सोच लिया आपने और आप कुछ बड़ा क्यों करना चाहते हो किससे तुलना कर रहे हो अपने आप को कि एक इन्सान था उसने बहुत कुछ किया था मैं भी उसी के तरह करूंगा

लेकिन नहीं आपको अपनी तरह करना है जो भी आप चाहते हो किसी और के तरह नहीं करना है अपनी तरह करना है अपने आप में बेस्ट बनो और वो करो जो आप रियल में करना चाहते हो जो सही मायने में आप करना चाहते हो |

आपको भूक लगना बंद हो जाए नींद आना बंद हो जाए कुछ काम सोच रहे हो फोन का भी ध्यान न आये वो आपका actual काम है |


3.   आलस्य Laziness

 हमें जिस चीज़ में इंटरेस्ट हो वो काम करने में मजा आ जाए तो आलस्य होता ही नहीं है | मानता हूँ कई लोगों को  पढ़ने का मन नहीं होता |  ठीक है आप थोड़ी पढ़ाई करो ज्यादा मत करो यदि कोई जबर्दस्ती बोलता है की पढ़ाई करो-करो तो उसे बोलने दो और आप भूल जाओ आप थोड़ी-थोड़ी पढ़ाई करते रहो ताकि आपको ज्ञान रहे की आपके पास पढ़ाई में कुछ हो जाए लेकिन मुख्य जो फोकस है वो अलग चीज़ में लगाओ जिसमे आप बेहतर कर सकते हो पढाई के साथ साथ |

 

पढाई में मन नहीं लगता  :

यदि आपको पढ़ाई में अच्छा नहीं लग रहा है तो कोई अलग चीज़ चुनो जिसमें आपको अच्छा लगे और उस चीज़ को अपना टार्गेट बनाओ उस चीज़ को अपना भविष्य बनाओ आप सोच रहे होंगे की कैसे?

वही मैं तरीका बाताउंगा की एक कॉपी और पेन लो और जो भी आप जिन्दगी में चाहते हो वो लिख डालो और जो भी आपके पास अभी सोर्सेज हैं फोन है ठीक है लिख दो, और एक लेपटॉप है या नहीं है तो मत लिखो है तो लिखो, घर है तो ठीक है घर की जरूरत नहीं है तो ठीक है वो लिख दो है|

जो भी चीज़ हैं और जो चीज़ नहीं है और चीज़ आप चाहते हो वो सब चीज़े आप लिख डालो और फिर देखो आपको करना क्या है?आपको अपना गोल/टार्गेट मिल जाएगा आप वास्तव में क्या करना चाहते हो और क्या कर सकते हो हमारी जिन्दगी में दो सपने होते हैं-

1.       जो आप ख्वाइस करते हो और नहीं हो पाने पर आप रोते हो

2.      जो आप सोचते हो आपके पास प्रूफ होता है की मैं कर दूंगा

 

आपके पास सभी सवालों के जवाब होते है कैसे करोगे ? क्या करोगे कितना समय लग सकता है क्या-क्या चीजों की जरूरत पड़ सकती है क्या-क्या समस्या आ सकती है आप अपने आप से उस समय एक्सक्यूज नहीं करते बहाना नहीं बनाते अपने आप को की ये कारण है इसलिये नहीं कर पा रहा हूँ

दिमाग हमारा बस मजा ही चाहता है खुशी चाहता है अब उसको आप जिसमे भी लगाना चाहो वो आपकी मर्जी है

jab kuch samajh na aaye to kya kare video
 


मेरे पास टेलेंट नहीं क्या करू ?

कई लोग बोलते हैं की मेरे पास टेलेंट ही नहीं है मैं क्या करू ? सभी के दिमाग में टेलेंट का मतबल डांस, गाना,पेंटिंग एक्टिंग ,राइटिंग ये ही सब आता है

लेकिन यही सब नहीं है और भी बहुत कुछ है यदि आप गूगल में चीजों को सर्च करने में एक्सपर्ट हो तो आप दुसरों को बोल सकते हो की मैं सिखाऊंगा इसके जगह पर आपको मुझे पैसे देना होगा

यदि आपको इंग्लिश बोलना आता है तो आप उसको बोलना सीखा सकते हो,

आपको वेब साइड बनाना आता है तो आप उसको बता सकते हो , आपके पास कुछ भी स्कील है या कुछ नया चीज़ कुछ भी आता हो आपको जोक्स करना या एक्टिंग करना या कुछ भी आता है

आपको कंप्यूटर -विज्ञान का काफी अच्छा ज्ञान है या कंप्यूटर ,मोबाइल की काफी अच्छी जानकारी है तो आप युट्युब में सिखा सकते हो या वेबसाइट पर बता सकते हो , एक्स्ट्रा ज्ञान है डाटा-एंट्री का ज्ञान है आप फाइवर में जा सकते हो  क्लर्क में कर सकते हो

आप क्यों नहीं कर पा रहे हो इसका सबसे बड़ा कारण यह है की एक तालाब है जिसमें सब लोग डूबे पड़े हैं और आप भी उसी तालाब में जाने की कोशिस कर रहे हो जब जगह ही नहीं है तो कहा जाओगे

लेकिन इंटरनेट/ऑनलाइन एक ऐसी जगह है जो समुंद्र है  जहाँ पर आपको ज्यादातर लोग नहीं मिलेंगें बहुत कम लोग मिलेंगे उम्मीद करता हूँ आप सब को समझ में आ रहा होगा जो मैं बता रहा हूँ तो टेलेंट हर किसी के पास है और समझना ये है की अभी आप क्या कर सकते हो फिलहाल के लिये आपके पास क्या है कुछ न कुछ है सिर्फ समझना है और सुरु कर दो

यदि आपको जानना चाहते हो या समझ नहीं अ रहा की कैसे करना है जो आप चाहते हो, तो आप मुझसे कमेन्ट में पूछ सकते हो तो उम्मीद करता हूँ जो भी मैंने आपको समझाया वो आपको समझ में आया होगा |


उमीद करता हु आपको समझ आ गया होगा जब ज़िन्दगी में कुछ समझ न आये तो क्या करे ( jab kuch samajh na aaye to kya kare ) और क्या करे जब कोई रास्ता न दिखे या समझ न आये |



Post a Comment

0 Comments