why space is black in hindi : अन्तरिक्ष में सूर्य होने पर भी अँधेरा क्यों है ? if the sun is in space how come space is dark

 

अन्तरिक्ष में सूर्य होने पर भी अँधेरा क्यों है ? Why light on earth but not in space

 क्या आपने कभी सोचा है की अन्तरिक्ष में सूर्य मौजूद होने पर भी अन्तरिक्ष में अंधेरा क्यों होता है?

आपने नोटिस किया होगा की जब हम किताब या टी.वी में देखते हैं तो अन्तरिक्ष काला ही दिखता है जबकि अन्तरिक्ष में सूर्य है और  वहां भी उजाला होना चाहिए और वही सूर्य जब पृथ्वी में पड़ती है तो वहाँ उजाला होता है लेकिन अन्तरिक्ष में अन्धेरा क्यों होता है ?

antriksh me surya hai fir andhera kyu hai video

अन्तरिक्ष में सूर्य होने पर भी अँधेरा क्यों है ?

बात करे सूर्य की तो सूर्य का प्रकाश ( जिसे हम किरण भी कहते है ) सभी दिशाओं में एक बराबर फैलता है लेकिन क्या आप जानते हैं प्रकाश स्वयं दिखायी नहीं देता जिस वस्तु में वह पड़ता है वह वस्तु दिखाई देता है | जब प्रकाश किसी वास्तु में टकराती है तब उस वास्तु से टकराके प्रकाश हमारे आँखों तक पहोचता है और हमें वास्तु दिखाई देती है |

लेकिन यही बात करे शितारो का तो सितारों का खुद का प्रकाश होता है सूर्य भी एक सितारा है सभी सितारें दिखाई देते हैं लेकिन गृह जैसे पृथ्वी चन्द्रमाँ,सूर्य आदि इनकी खुद की प्रकाश नही होती, ये तभी दिखाई देती है जब सूर्य का प्रकाश इन पर पड़ता है |

यह बोला जाता है अन्तरिक्ष में प्रकाश नहीं है मिथक है या सच ?

अन्तरिक्ष में प्रकाश होता है अन्तरिक्ष से ही गुजरते हुए प्रकाश पृथ्वी तक पंहुचता है जब प्रकाश की किरणें जब किसी वस्तु की सतह से प्रवर्तीत होकर यानिकी उस वस्तु से टकरा कर हमारी आँखों पर पड़ती है  तो हमें वह वस्तु दिखाई पड़ती है

 अगर कोई वस्तु लाल दिखाई देती है तो वह लाल होती नहीं वह बाकी रंग अपने अंदर समा लेती है सिर्फ लाल रंग को ही नहीं सोखती और उसे वापस लौटा देती है और जब उससे होकर वो प्रकाश हमारे आँखों तक पहुचती है जिससे वो वास्तु हमें लाल दिखाई देती है |

जैसे हमने पत्ते हरे क्यों होते हैं के बारे में पढ़ा और जाना था अगर कोई वस्तु अन्तरिक्ष में है ही नहीं है जिससे प्रकाश टकरा सके तो कैसे सूर्य के प्रकाश की किरणें हमारी आँखों तक पँहुचेगी मतलब अन्तरिक्ष में प्रकाश को परावर्तीत करने वाली कणों ,अणुओं, आदि कोई भी चीज़ नहीं होने के कारण उससे प्रकाश टकरा के हमारे आँखों तक जाती नही जिससे हमें अन्तरिक्ष काला दिखाई देता है 

जब कोई चीज़ ही नहीं है वहाँ तो किससे प्रकाश टकराएगी  और कैसे हमारी आँखों तक पँहुचेगी और यही कारण होता है की अन्तरिक्ष काला दिखाई देता है 

लेकिन चन्द्रमा क्यों दिखाई देता है ?

क्योंकि जब चन्द्रमा पर सूर्य का प्रकाश टकराकर हमारी आँखों तक पहुँचता है तो चन्द्रमा हमें दिखाई देता है और ऐसा ही हर चीजों में होता है

यदि हम बात करें पृथ्वी की तो पृथ्वी पर हर जगह वस्तु ही  वस्तुए हैं  जिससे प्रकाश जब टकराती है तो हमारी आँखों तक पँहुचती है जिस वजह से हमें वह वस्तु दिखाई पड़ती है जिससे हम कहते हैं की यहाँ प्रकाश है  जबकि अन्तरिक्ष में ऐसा कुछ नहीं है जिसके कारण अन्तरिक्ष में सूर्य के होने के बावजूद भी अँधेरा ही अँधेरा दिखाई देता है

तो उम्मीद करता हूँ दोस्तों आपको पता चल गया होगा की अन्तरिक्ष में सूर्य होने पर भी अँधेरा क्यों है

Post a Comment

1 Comments

  1. The advantage of printing immediately from flash media is that you don't want a pc. The draw back is that it adds an additional step, that of transferring the recordsdata to your card. Typically, wireless, SD card, or thumb-drive connectivity is offered along with the essential USB Humidifiers for Bedroom cable, although quantity of} models omit the latter. Stereolithography printers can print at high resolutions and skip filament in favor of photosensitive (UV-curable) liquid resin, which is offered in bottles.

    ReplyDelete